इब्राहीम (अलैहिस्सलाम) ने किसकी क़ुर्बानी दी , इस्माईल की या इस्हाक़ की?

जब हम नबी इब्राहीम (अलैहिस्सलाम) के बेटे की क़ुर्बानी की बाबत जब हम बात करते हैं तो मेरे दोस्त लोग इसरार करते हैं कि बेटा जो कुर्बान होने को था वह इस्माईल था जो हज़रत इब्राहीम का बड़ा बेटा था जो हाजरा से था, छोटा बेटा इस्हाक़ नहीं था जो सारह से था। मगर मैं ने जब कुरान शरीफ़ में इस के बारे में पढ़ा तो मैं ता’ज्जुब में पढ़ गया।  जब मैं ने अपने दोस्तों को दिखाया तो वह लोग भी ताज्जुब करने लगे।  इब्राहीम के निशान 3 में मैं ने इस अहम् वक़िये को देखा जहां पूरी इबारत का हवाला दिया गया है। सो यह इबारत क्या कहती है? ख़ास आयत को दोबारा से दोहराया गया है। 

फिर जब इस्माईल अपने बाप के साथ दौड़ धूप करने लगा तो (एक दफा) इबराहीम ने कहा बेटा खूब मैं (वही के ज़रिये क्या) देखता हूँ कि मैं तो खुद तुम्हें ज़िबाह कर रहा हूँ तो तुम भी ग़ौर करो तुम्हारी इसमें क्या राय है इसमाईल ने कहा अब्बा जान जो आपको हुक्म हुआ है उसको (बे तअम्मुल) कीजिए अगर खुदा ने चाहा तो मुझे आप सब्र करने वालों में से पाएग

अल-सफ़फ़ात 37:102

इस इबारत में हज़रत इब्राहीम के बेटे की क़ुर्बानी की बाबत बेटे के नाम का ज़िक्र तक नहीं  किया गया है और ऐसी हालत में और ज़ियादा कलाम की खोज और मुताला करनी चाहिए। अगर आप पूरी कुरान शरीफ़ में नबी इस्माईल के नाम की तलाश करेंगे तो आप देखेंगे कि 12 मर्तबा उस के नाम का ज़िकर आया हुआ है।

°  इन बारह में से दो मर्तबा अपने बाप इब्राहीम के साथ उस का नाम आया हुआ है (2:125, 2:127)

°  बाक़ी बचे दस में से पांच मर्तबा उसका नाम इब्राहीम के साथ अपने भाई इस्हाक़ के साथ आया हुहै (2:133, 2:136, 2:140, 3:84, 4:163)।

°  बाक़ी बची पांच इबारतें अपने बाप इब्राहीम के नाम के बगैर ज़िकर किया गया है, मगर दीगर नबियों की फ़ेहरिस्त के साथ (6:86, 14:39, 19:54, 21:85, 38:48)।

दो मर्तबा उस का नाम अपने बाप हज़रत इब्राहीम के साथ ज़िकर हुआ है। आप इसको दुआ के दीगर वाक़ियात में देख सकते हैं –  न कि क़ुर्बानी के सिलसिले में।

 (ऐ रसूल वह वक्त भी याद दिलाओ) जब हमने ख़ानए काबा को लोगों के सवाब और पनाह की जगह क़रार दी और हुक्म दिया गया कि इबराहीम की (इस) जगह को नमाज़ की जगह बनाओ और इबराहीम व इसमाइल से अहद व पैमान लिया कि मेरे (उस) घर को तवाफ़ और एतक़ाफ़ और रूकू और सजदा करने वालों के वास्ते साफ सुथरा रखो

अल – बक़रह 2:125

और (वह वक्त याद दिलाओ) जब इबराहीम व इसमाईल ख़ानाए काबा की बुनियादें बुलन्द कर रहे थे (और दुआ) माँगते जाते थे कि ऐ हमारे परवरदिगार हमारी (ये ख़िदमत) कुबूल कर बेशक तू ही (दूआ का) सुनने वाला (और उसका) जानने वाला है

अल – बक़रह 2:127

कुरान शरीफ़ कभी भी  तअय्युन नहीं करता कि क़ुर्बानी के लिए इस्माईल को क़ुरबानगाह पर रखकर ख़ुदा के ज़रिये उसके बाप इब्ररहीम (अलैहिस्सलाम) का इम्तिहान लिया गया था। वह सिर्फ़ और सिर्फ़ ‘बेटे’ को कहता है। सो मुझे नहीं मा’लूम कि ऐसा क्यूँ यकीन किया जाता है कि वह इसमाईल था जिसे क़ुर्बानी के लिए नज़र किया गया था। 

हज़रत इब्राहीम के बेटे की क़ुर्बानी पर शरह (तफ़सीर)

यूसुफ अली कुरान शरीफ़ के एक मुअज़ज़िज़ मुफ़स्सिर और मुतर्जिम भी हैं।  उनकी तफ़सीर http://al-quraan.info में दस्तियाब है।

बेटे की क़ुर्बानी दिए जाने की तफ़सीर ज़ेल के दो हाशियों पर क़ुरबानी की इबारत मरक़ूम है :

4071 यह सीरिया और फ़लिस्तीन के ज़रखेज़ इलाक़े में था।  लड़का जो पैदा हुआ था वह मुस्लिम रिवायत के मुताबिक था, और वह इब्राहीम का पह्लोठा बेटा था या’नि इस्माईल – यह नाम खुद् ब खुद लफ़ज़ के असल समि’ आ से है जिस के मायने हैं सुनना। इसलिए कि ख़ुदा ने इब्राहीम की दुआ सुन ली थी (आयत 100) जब इस्माईल पैदा हुआ था तो उस वक़्त इब्राहिम की उम्र 86 थी

पैदाइश 16:16

।  इस हिसाब से देखा जाए तो इस्माईल इस्हाक़ से 14 साल बड़ा था। उसके पहले 14 सालों में इस्माईल ही इब्राहीम का एकलौता बेटा था इस के बाद जब इस्हाक़ पैदा हुआ तो वही उस का एकलौता बन गया। इस के बावजूद भी जब हम क़ुर्बानी की बात करते हैं तो पुराना अहद नामा कहता है (पैदाइश 22:2) “तब ख़ुदा ने कहा तू अपने बेटे इस्हाक़ को जो तेरा एकलौता है और जिसे तू प्यार करता है ,अपने साथ लेकर मोरियाह के मुल्क में जा और वहां उसे पहाड़ों में से एक पहाड़ पर जो मैं तुझे बताऊंगा सोख़तनी क़ुर्बानी के तोर पर चढ़ा …”   

ज़ेल के इस हाशिये में वह बहस करता है कि जबकि तौरात कहती है कि ‘तू अपने को ले जो तेरा एकलोता है …..” (पैदाइश 22:2) और इस्माईल 14 साल का था, इस लिए सिर्फ़ इस्माईल को ही एकलोता बेटा बतोर क़ुर्बानी के लिए नज़र किया जा सकता था। मगर वह भूल जाता है कि इस से पहले पैदाइश 21 में उसने इस्माईल आर हाजरा को अपने ख़ानदान से दूर कर दिया था तो इस्हाक़ ही वाजिब तोर से उस का एकलोता बेटा ठहरा – यहाँ ज़ेल में कुछ और बातें तफ़सील से दी गई हैं :

इब्राहीम का बेटा क़ुर्बान हुआ : तौरात की गवाही

तो फिर कुरान शरीफ़ तअय्युन नहीं करता कि किस बेटे को क़ुर्बानी के लिए नज़र किया गया था मगर तौरात में साफ़ लिखा है-आप देख सकते हैं कि तौरात में पैदाइश के 22 बाब में इस्हाक़ के नाम को फ़रक़ फ़रक़ औक़ात में 6 बार ब्यान करता है : देखें (22:2, 3, 6, 7 और 9 आयत में दो बार)-

तौरात का हज़रत मुहम्मद (सल्लम) के ज़रिये तस्दीक़ किया जाना 

तौरात जो आज की तारीख़ में मौजूद है उसको हज़रत मोहम्मद (सल्लम)के ज़रिये किये जाने का साफ़ बयान हदीसों में मौजूद है। इस से ताल्लुक़ रखते हुए कई एक हदीसें मेरे पास मौजूद हैं जिन में से एक बयान करता है : मुलाहजा फरमाएं :

 नाराज़ अब्दुल्ला इब्न उमर: .. यहूदियों का एक समूह आया और अल्लाह के रसूल (पीबीयूएच) को क्वफ में आमंत्रित किया। … उन्होंने कहा: Q अबुलकसीम, हमारे एक आदमी ने एक महिला के साथ व्यभिचार किया है; इसलिए उन पर फैसला सुनाएँ। ‘ उन्होंने अल्लाह के रसूल (पीबीयूएच) के लिए एक गद्दी रखी जो उस पर बैठ गया और कहा: “टोरा लाओ”। इसे तब लाया गया था। फिर उसने अपने नीचे से गद्दी वापस ले ली और यह कहते हुए तोराह को रख दिया: “मैं तुम पर विश्वास करता था और तुम कौन हो।” :

सुनन अबू दाऊद, किताब 38 सफ़्हा 4434:

तौरात का नबी हज़रत ईसा अल – मसीह (अलैहिस्सलाम) के ज़रिये तस्दीक़ किया जाना

नबी हज़रत ईसा अल मसीह ने भी तौरात को पूरे दा’वे के साथ तसदीक़ की है जिस के बयानात को हम ने यहाँ देखा -उसकी तरफ़ से एक ता’लीम इस तरह है देखें :

18 मैं तुम से सत्य कहता हूँ कि जब तक धरती और आकाश समाप्त नहीं हो जाते, मूसा की व्यवस्था का एक एक शब्द और एक एक अक्षर बना रहेगा, वह तब तक बना रहेगा जब तक वह पूरा नहीं हो लेता।19 “इसलिये जो इन आदेशों में से किसी छोटे से छोटे को भी तोड़ता है और लोगों को भी वैसा ही करना सिखाता है, वह स्वर्ग के राज्य में कोई महत्व नहीं पायेगा। किन्तु जो उन पर चलता है और दूसरों को उन पर चलने का उपदेश देता है, वह स्वर्ग के राज्य में महान समझा जायेगा।

मत्ती 5:18-19

  चौकन्ना होना : रिवायात तौरात पर कभी हावी नहीं होती

किसी रिवायत का वास्ता देकर हज़रत मूसा के ज़रिये लिखी गई तौरात को ख़ारिज कर देना समझदारी नहीं है।  दरअसल हज़रत ईसा अल मसीह (अलैहिस्सलाम) ने अपने ज़माने के मज़हबी रहनुमाओं की बाक़ायदा तौर से नुक्ताचीनी की थी क्यूंकि वह लोग मूसा की शरीयत के साथ अपनी रिवायात का इज़ाफ़ा अपने मतलब के लिए करदेते थे जिसतरह हम यहाँ देखते हैं :

  यीशु ने उत्तर दिया, “अपने रीति-रिवाजों के कारण तुम परमेश्वर के विधि को क्यों तोड़ते हो? क्योंकि परमेश्वर ने तो कहा था ‘तू अपने माता-पिता का आदर कर’ [a] और ‘जो कोई अपने पिता या माता का अपमान करता है, उसे अवश्य मार दिया जाना चाहिये।’ [b] किन्तु तुम कहते हो जो कोई अपने पिता या अपनी माता से कहे, ‘क्योंकि मैं अपना सब कुछ परमेश्वर को अर्पित कर चुका हूँ, इसलिये तुम्हारी सहायता नहीं कर सकता।’ इस तरह उसे अपने माता पिता का आदर करने की आवश्यकता नहीं। इस प्रकार तुम अपने रीति-रिवाजों के कारण परमेशवर के आदेश को नकारते हो। ओ ढोंगियों, तुम्हारे बारे में यशायाह ने ठीक ही भविष्यवाणी की थी। उसने कहा था:

मत्ती 15: 3 – 7

नबी की तंबीह पैग़ाम को रिवायात की खातिर कभी भी बातिल या मनसूख़ करने के लिए कभी नहीं है यह बिलकुल साफ़ है।

मौजूदा तौरात की गवाही बहीरा -ए- मुरदार के तूमार की तसदीक़ करती है

ज़ेल का नक्शा बताता है कि जो सब से क़दीम तौरात के तूमार हैं वह बहीरा -ए- मुरदार के तूमार हैं, जिन की तारीख़ लग भाग 200 क़ब्ल मसीह है – (इस से भी ज़ियादा ज़ेल के नक्शे में यहाँ है। इस का मतलब यह है कि जिस तौरात का हवाला हज़रत मोहम्मद (सल्लम) और हज़रत ईसा (अलैहिस्सलाम) ने दिया था वह वही है, जिन का मौजूदा दौर में इस्तेमाल किया जा रहा है ।

The Bible through time

जो कुछ नबियों ने ज़ाहिर किया है उस की तरफ़ वापस लौटते हुए यह सवाल हमारे लिए साफ़ करती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *