इब्राहीम (अलैहिस्सलाम) ने किसकी क़ुर्बानी दी , इस्माईल की या इस्हाक़ की?

जब हम नबी इब्राहीम (अलैहिस्सलाम) के बेटे की क़ुर्बानी की बाबत जब हम बात करते हैं तो मेरे दोस्त लोग इसरार करते हैं कि बेटा जो कुर्बान होने को था वह इस्माईल था जो हज़रत इब्राहीम का बड़ा बेटा था जो हाजरा से था, छोटा बेटा इस्हाक़ नहीं था जो सारह से था। मगर मैं ने जब कुरान शरीफ़ में इस के बारे में पढ़ा तो मैं ता’ज्जुब में पढ़ गया।  जब मैं ने अपने दोस्तों को दिखाया तो वह लोग भी ताज्जुब करने लगे।  इब्राहीम के निशान 3 में मैं ने इस अहम् वक़िये को देखा जहां पूरी इबारत का हवाला दिया गया है। सो यह इबारत क्या कहती है? ख़ास आयत को दोबारा से दोहराया गया है। 

फिर जब इस्माईल अपने बाप के साथ दौड़ धूप करने लगा तो (एक दफा) इबराहीम ने कहा बेटा खूब मैं (वही के ज़रिये क्या) देखता हूँ कि मैं तो खुद तुम्हें ज़िबाह कर रहा हूँ तो तुम भी ग़ौर करो तुम्हारी इसमें क्या राय है इसमाईल ने कहा अब्बा जान जो आपको हुक्म हुआ है उसको (बे तअम्मुल) कीजिए अगर खुदा ने चाहा तो मुझे आप सब्र करने वालों में से पाएग

अल-सफ़फ़ात 37:102

इस इबारत में हज़रत इब्राहीम के बेटे की क़ुर्बानी की बाबत बेटे के नाम का ज़िक्र तक नहीं  किया गया है और ऐसी हालत में और ज़ियादा कलाम की खोज और मुताला करनी चाहिए। अगर आप पूरी कुरान शरीफ़ में नबी इस्माईल के नाम की तलाश करेंगे तो आप देखेंगे कि 12 मर्तबा उस के नाम का ज़िकर आया हुआ है।

°  इन बारह में से दो मर्तबा अपने बाप इब्राहीम के साथ उस का नाम आया हुआ है (2:125, 2:127)

°  बाक़ी बचे दस में से पांच मर्तबा उसका नाम इब्राहीम के साथ अपने भाई इस्हाक़ के साथ आया हुहै (2:133, 2:136, 2:140, 3:84, 4:163)।

°  बाक़ी बची पांच इबारतें अपने बाप इब्राहीम के नाम के बगैर ज़िकर किया गया है, मगर दीगर नबियों की फ़ेहरिस्त के साथ (6:86, 14:39, 19:54, 21:85, 38:48)।

दो मर्तबा उस का नाम अपने बाप हज़रत इब्राहीम के साथ ज़िकर हुआ है। आप इसको दुआ के दीगर वाक़ियात में देख सकते हैं –  न कि क़ुर्बानी के सिलसिले में।

 (ऐ रसूल वह वक्त भी याद दिलाओ) जब हमने ख़ानए काबा को लोगों के सवाब और पनाह की जगह क़रार दी और हुक्म दिया गया कि इबराहीम की (इस) जगह को नमाज़ की जगह बनाओ और इबराहीम व इसमाइल से अहद व पैमान लिया कि मेरे (उस) घर को तवाफ़ और एतक़ाफ़ और रूकू और सजदा करने वालों के वास्ते साफ सुथरा रखो

अल – बक़रह 2:125

और (वह वक्त याद दिलाओ) जब इबराहीम व इसमाईल ख़ानाए काबा की बुनियादें बुलन्द कर रहे थे (और दुआ) माँगते जाते थे कि ऐ हमारे परवरदिगार हमारी (ये ख़िदमत) कुबूल कर बेशक तू ही (दूआ का) सुनने वाला (और उसका) जानने वाला है

अल – बक़रह 2:127

कुरान शरीफ़ कभी भी  तअय्युन नहीं करता कि क़ुर्बानी के लिए इस्माईल को क़ुरबानगाह पर रखकर ख़ुदा के ज़रिये उसके बाप इब्ररहीम (अलैहिस्सलाम) का इम्तिहान लिया गया था। वह सिर्फ़ और सिर्फ़ ‘बेटे’ को कहता है। सो मुझे नहीं मा’लूम कि ऐसा क्यूँ यकीन किया जाता है कि वह इसमाईल था जिसे क़ुर्बानी के लिए नज़र किया गया था। 

हज़रत इब्राहीम के बेटे की क़ुर्बानी पर शरह (तफ़सीर)

यूसुफ अली कुरान शरीफ़ के एक मुअज़ज़िज़ मुफ़स्सिर और मुतर्जिम भी हैं।  उनकी तफ़सीर http://al-quraan.info में दस्तियाब है।

बेटे की क़ुर्बानी दिए जाने की तफ़सीर ज़ेल के दो हाशियों पर क़ुरबानी की इबारत मरक़ूम है :

4071 यह सीरिया और फ़लिस्तीन के ज़रखेज़ इलाक़े में था।  लड़का जो पैदा हुआ था वह मुस्लिम रिवायत के मुताबिक था, और वह इब्राहीम का पह्लोठा बेटा था या’नि इस्माईल – यह नाम खुद् ब खुद लफ़ज़ के असल समि’ आ से है जिस के मायने हैं सुनना। इसलिए कि ख़ुदा ने इब्राहीम की दुआ सुन ली थी (आयत 100) जब इस्माईल पैदा हुआ था तो उस वक़्त इब्राहिम की उम्र 86 थी

पैदाइश 16:16

।  इस हिसाब से देखा जाए तो इस्माईल इस्हाक़ से 14 साल बड़ा था। उसके पहले 14 सालों में इस्माईल ही इब्राहीम का एकलौता बेटा था इस के बाद जब इस्हाक़ पैदा हुआ तो वही उस का एकलौता बन गया। इस के बावजूद भी जब हम क़ुर्बानी की बात करते हैं तो पुराना अहद नामा कहता है (पैदाइश 22:2) “तब ख़ुदा ने कहा तू अपने बेटे इस्हाक़ को जो तेरा एकलौता है और जिसे तू प्यार करता है ,अपने साथ लेकर मोरियाह के मुल्क में जा और वहां उसे पहाड़ों में से एक पहाड़ पर जो मैं तुझे बताऊंगा सोख़तनी क़ुर्बानी के तोर पर चढ़ा …”   

ज़ेल के इस हाशिये में वह बहस करता है कि जबकि तौरात कहती है कि ‘तू अपने को ले जो तेरा एकलोता है …..” (पैदाइश 22:2) और इस्माईल 14 साल का था, इस लिए सिर्फ़ इस्माईल को ही एकलोता बेटा बतोर क़ुर्बानी के लिए नज़र किया जा सकता था। मगर वह भूल जाता है कि इस से पहले पैदाइश 21 में उसने इस्माईल आर हाजरा को अपने ख़ानदान से दूर कर दिया था तो इस्हाक़ ही वाजिब तोर से उस का एकलोता बेटा ठहरा – यहाँ ज़ेल में कुछ और बातें तफ़सील से दी गई हैं :

इब्राहीम का बेटा क़ुर्बान हुआ : तौरात की गवाही

तो फिर कुरान शरीफ़ तअय्युन नहीं करता कि किस बेटे को क़ुर्बानी के लिए नज़र किया गया था मगर तौरात में साफ़ लिखा है-आप देख सकते हैं कि तौरात में पैदाइश के 22 बाब में इस्हाक़ के नाम को फ़रक़ फ़रक़ औक़ात में 6 बार ब्यान करता है : देखें (22:2, 3, 6, 7 और 9 आयत में दो बार)-

तौरात का हज़रत मुहम्मद (सल्लम) के ज़रिये तस्दीक़ किया जाना 

तौरात जो आज की तारीख़ में मौजूद है उसको हज़रत मोहम्मद (सल्लम)के ज़रिये किये जाने का साफ़ बयान हदीसों में मौजूद है। इस से ताल्लुक़ रखते हुए कई एक हदीसें मेरे पास मौजूद हैं जिन में से एक बयान करता है : मुलाहजा फरमाएं :

 नाराज़ अब्दुल्ला इब्न उमर: .. यहूदियों का एक समूह आया और अल्लाह के रसूल (पीबीयूएच) को क्वफ में आमंत्रित किया। … उन्होंने कहा: Q अबुलकसीम, हमारे एक आदमी ने एक महिला के साथ व्यभिचार किया है; इसलिए उन पर फैसला सुनाएँ। ‘ उन्होंने अल्लाह के रसूल (पीबीयूएच) के लिए एक गद्दी रखी जो उस पर बैठ गया और कहा: “टोरा लाओ”। इसे तब लाया गया था। फिर उसने अपने नीचे से गद्दी वापस ले ली और यह कहते हुए तोराह को रख दिया: “मैं तुम पर विश्वास करता था और तुम कौन हो।” :

सुनन अबू दाऊद, किताब 38 सफ़्हा 4434:

तौरात का नबी हज़रत ईसा अल – मसीह (अलैहिस्सलाम) के ज़रिये तस्दीक़ किया जाना

नबी हज़रत ईसा अल मसीह ने भी तौरात को पूरे दा’वे के साथ तसदीक़ की है जिस के बयानात को हम ने यहाँ देखा -उसकी तरफ़ से एक ता’लीम इस तरह है देखें :

18 मैं तुम से सत्य कहता हूँ कि जब तक धरती और आकाश समाप्त नहीं हो जाते, मूसा की व्यवस्था का एक एक शब्द और एक एक अक्षर बना रहेगा, वह तब तक बना रहेगा जब तक वह पूरा नहीं हो लेता।19 “इसलिये जो इन आदेशों में से किसी छोटे से छोटे को भी तोड़ता है और लोगों को भी वैसा ही करना सिखाता है, वह स्वर्ग के राज्य में कोई महत्व नहीं पायेगा। किन्तु जो उन पर चलता है और दूसरों को उन पर चलने का उपदेश देता है, वह स्वर्ग के राज्य में महान समझा जायेगा।

मत्ती 5:18-19

  चौकन्ना होना : रिवायात तौरात पर कभी हावी नहीं होती

किसी रिवायत का वास्ता देकर हज़रत मूसा के ज़रिये लिखी गई तौरात को ख़ारिज कर देना समझदारी नहीं है।  दरअसल हज़रत ईसा अल मसीह (अलैहिस्सलाम) ने अपने ज़माने के मज़हबी रहनुमाओं की बाक़ायदा तौर से नुक्ताचीनी की थी क्यूंकि वह लोग मूसा की शरीयत के साथ अपनी रिवायात का इज़ाफ़ा अपने मतलब के लिए करदेते थे जिसतरह हम यहाँ देखते हैं :

  यीशु ने उत्तर दिया, “अपने रीति-रिवाजों के कारण तुम परमेश्वर के विधि को क्यों तोड़ते हो? क्योंकि परमेश्वर ने तो कहा था ‘तू अपने माता-पिता का आदर कर’ [a] और ‘जो कोई अपने पिता या माता का अपमान करता है, उसे अवश्य मार दिया जाना चाहिये।’ [b] किन्तु तुम कहते हो जो कोई अपने पिता या अपनी माता से कहे, ‘क्योंकि मैं अपना सब कुछ परमेश्वर को अर्पित कर चुका हूँ, इसलिये तुम्हारी सहायता नहीं कर सकता।’ इस तरह उसे अपने माता पिता का आदर करने की आवश्यकता नहीं। इस प्रकार तुम अपने रीति-रिवाजों के कारण परमेशवर के आदेश को नकारते हो। ओ ढोंगियों, तुम्हारे बारे में यशायाह ने ठीक ही भविष्यवाणी की थी। उसने कहा था:

मत्ती 15: 3 – 7

नबी की तंबीह पैग़ाम को रिवायात की खातिर कभी भी बातिल या मनसूख़ करने के लिए कभी नहीं है यह बिलकुल साफ़ है।

मौजूदा तौरात की गवाही बहीरा -ए- मुरदार के तूमार की तसदीक़ करती है

ज़ेल का नक्शा बताता है कि जो सब से क़दीम तौरात के तूमार हैं वह बहीरा -ए- मुरदार के तूमार हैं, जिन की तारीख़ लग भाग 200 क़ब्ल मसीह है – (इस से भी ज़ियादा ज़ेल के नक्शे में यहाँ है। इस का मतलब यह है कि जिस तौरात का हवाला हज़रत मोहम्मद (सल्लम) और हज़रत ईसा (अलैहिस्सलाम) ने दिया था वह वही है, जिन का मौजूदा दौर में इस्तेमाल किया जा रहा है ।

The Bible through time

जो कुछ नबियों ने ज़ाहिर किया है उस की तरफ़ वापस लौटते हुए यह सवाल हमारे लिए साफ़ करती है।

इब्राहीम की 2 निशानी : रास्त्बाज़ी

अल्लाह की जानिब से हम को क्या कुछ ज़रूरत है ? इस सवाल के लिए कई एक जवाब हैं, मगर आदम की निशानी हम को याद दिलाती है कि हमारी सब से पहली और सब से बड़ी ज़रुरत रास्त्बाज़ी  है। यहाँ हम उन अलफ़ाज़ को देखते हैं जो बराहे रास्त हमारी तरफ़ मुखातब है (बनी आदम)।

  हे आदम के बच्चों! हमने आपकी लाज को ढंकने के लिए आपको शुभकामनाएँ दी हैं, साथ ही साथ आपके लिए श्रंगार भी किया है। लेकिन धार्मिकता की छाप – यही सबसे अच्छा है। ऐसे अल्लाह के संकेतों में से हैं, कि उन्हें नसीहत मिल सकती है।

सूरत 7:26

तो फिर ‘रास्त्बाज़ी’ क्या है ? तौरेत अल्लाह कि बाबत हम से कहती है कि (इसतिसना 32:4)

मैं यहोवा के नाम की घोषणा करूंगा।
ओह, हमारे भगवान की महानता की प्रशंसा करो!
वह रॉक है, उसके काम एकदम सही हैं,
और उसके सभी तरीके सिर्फ हैं।
एक वफादार ईश्वर जो गलत नहीं करता,
ईमानदार और बस वह है।

यह अल्लाह की रास्त्बाज़ी की तस्वीर है जिसको तौरेत में बयान किया गया है ।रास्त्बाज़ी के मायने हैं वह जो कामिल है; यानि मुकम्मल तोर से कामिल; (थोड़ा या ज़ियादा नहीं बल्कि तमाम कमाल) जिसकी राहें सच्ची हैं ,जिसमें थोड़ी सी भी,नाम के लिए भी बुराई नहीं पाई जाती; जो कि बरहक़ है। यह है रास्त्बाज़ी जिसतरह से अल्लाह के बारे में तौरेत ज़िकर करती है। मगर सवाल यह है कि हमको रास्त्बाज़ी कि क्या ज़रुरत है और क्यूँ ज़रुरत है? इस का जवाब पाने के लिए हम एक ज़बूर का हवाला देखेंगे। ज़बूर 15 जिसको हज़रत दाऊद (अलै.) ने लिखा है इसे हम इस तरह से पढ़ते हैं:

प्रभु, आपके पवित्र तम्बू में कौन रह सकता है?
  आपके पवित्र पर्वत पर कौन रह सकता है?

   2 जिसकी राह चलती है, वह निर्दोष है,
    जो धर्मी है,
   जो उनके दिल से सच बोलता है;
    3 जिसकी जीभ में कोई बदनामी न हो,
    जो पड़ोसी के लिए गलत नहीं है,
    और दूसरों पर कोई गाली नहीं डालता;
     4 जो एक वीभत्स व्यक्ति का तिरस्कार करता है
    जो प्रभु से डरते हैं उनका आदर करते हैं;
    जो दर्द होने पर भी शपथ रखता है,
    और उनका मन नहीं बदलता है;
    5 जो बिना ब्याज के गरीबों को पैसा उधार देता है;
    जो निर्दोष के खिलाफ रिश्वत स्वीकार नहीं करता है …

  जब यह पूछा जाता है कि कौन अल्लाह के ‘मुक़द्दस पहाड़’ पर रह सकता है, तो दुसरे तरीके से यह पूछा जाता है या इस सवाल का दूसरा पहलू यह है कि ‘अल्लाह के साथ कौन जन्नत में रहेगा’? तो हम देख सकते हैं कि इस का जवाब यह है कि “वह जो बे गुनाह और ‘रास्त्बाज़’ है (आयत 2)। वह शख्स अल्लाह के साथ जन्नत में दाखिल हो सकता है। इसी लिए हम को रास्त्बाज़ी की ज़रूरत है। रास्त्बाज़ी की ज़रुरत इस लिए भी है क्यूंकि खुद अल्लाह कामिल है।

अब इब्राहीम (अलैहिस्सलाम) की दूसरी निशानी पर गौर करें। किताबों से इबारत को खोलने के लिए यहाँ पर किलिक करें। तौरेत शरीफ़ और कुरान शरीफ़ की आयतों को पढने के बाद हम देखते हैं कि इब्राहीम (अलैहिस्सलाम) अल्लाह के रास्ते पर चले (सूरा 37:83) और ऐसा करते हुए उस ने ‘रास्त्बाज़ी’ हासिल की (पैदाइश 15:6)। यही बात आदम कि निशानी में भी हम से कहा गया था कि हमें रास्त्बाज़ी की ज़रुरत है। सो अहम् सवाल हमारे लिए यह है कि : उसने इसे किस तरह हासिल किया ?

अक्सर मैं सोचता हूँ कि मै रास्त्बाज़ी को दो रास्तों में से एक को चुनने के ज़रिये हासिल करता हूँ पहले रास्ते में (मेरे ख़यालात में) अल्लाह के वजूद पर ईमान लाने के ज़रिये या उसे तस्लीम करने के ज़रिये मैं रास्त्बाज़ी को हासिल करता हूँ। मैं अल्लाह पर ‘ईमान’ लाता हूँ। इस ख़याल का सहारा लेते हुए क्या हम तौरेत में ऐसा नहीं पढ़ते कि इब्राहीम (अलैहिस्सलाम) खुदावंद पर ईमान नहीं लाए थे? देखें (पैदाइश 15:6) मगर कुछ और गौर ओ फ़िक्र के साथ मैं ने यह महसूस किया है कि ईमान लाने का मतलब सिर्फ़ यह नहीं कि एक वाहिद ख़ुदा के वजूद पर ईमान लाना – नहीं बल्कि अल्लाह ने उसको एक पक्का वायदा किया था कि वह अपना एक बेटा हासिल करेगा। और वह एक ऐसा वायदा था जिस के लिए इब्राहीम (अलैहिस्सलाम) को चुनना था कि वह इस पर ईमान लाएं या नहीं। इस की बाबत आगे सोचें कि शैतान या इब्लीस भी अल्लाह के वजूद पर ईमान रखता है। और यह यकीन के साथ कहा जा सकता है कि उस के अन्दर कोई रास्त्बाज़ी नहीं है। सो सादगी के साथ अल्लाह के वजूद पर ईमान लाना ही ‘किसी मसले का हल’ नहीं है। मतलब यह कि इतना ही काफ़ी नहीं है।

दूसरा रासता जो मैं अक्सर सोचता हूँ वह यह है कि रास्त्बाज़ी को मैं अपनी क़ाबिलियत से हासिल कर सकता हूँ या मैं इसको नेक काम या मज़हबी कामों को करने के ज़रिये अल्लाह से कमा सकता हूँ जैसे बुरे कामों की निस्बत भले कामों को ज़ियादा करना, नमाज़ अदा करना, रोज़े रखना या किसी तरह के मज़हबी कामों को अंजाम देना मुझे इजाज़त देता है कि मैं रस्त्बाज़ी हासिल करने का हक़दार बनू, कमाऊं या क़ाबिल बनूं। मगर गौर करें तौरेत शरीफ़ इस तरह से हरगिज़ नहीं कहती।

अबराम खुदावंद पर ईमान लाया और उसने [यानी कि अल्लाह ने] उसके लिए [यानी इब्राहीम अलै. के लिए] रास्त्बाज़ी गिना गया।

पैदाइश15:6

इब्राहीम (अलै.) ने रास्त्बाज़ी को कमाया नहीं था बल्कि यह उसके लिए ‘शुमार किया गया’ था। सो इन दोनों में क्या फ़रक़ है? सहीह मायनों में देखा जाए, अगर कोई चीज़ ‘कमानी’ है तो आप उस के लिए काम करते हैं फिर आप उसके मुस्तहक़ होते हैं। यह बिलकुल उसी तरह है जैसे आप मेहनत करते हैं तो आप मज़दूरी के हक़दार होते है। पर अगर आप के नाम कोई चीज़ जमा की जाती या मंसूब की जाती है तो यह आप को अता की जाती है। यह आप का कमाया हुआ नहीं है या आप मुस्तहक़ नहीं थे।

इब्राहीम (अलैहिस्सलाम) वह शख्स थे जो गहराई से अल्लाह (वाहिद ख़ुदा) के वजूद पर ईमान लाए थे। वह दुआ बंदगी करने वाले और दूसरों की मदद करने वाले थे। जैसे कि वह अपने भतीजे लूत/लोट की मदद करते और उस के लिए दुआ करते थे। यह वह बातें हैं जिन का हम इनकार नहीं कर सकते। मगर जो कुछ इब्राहीम के तोर तरीके की बाबत बताया वह बहुत ही सीधा साधा जिन्हें हम तक़रीबन चूक जाते हैं। तौरेत हम से कहती है कि इब्राहीम (अलैहिस्सलाम) रास्त्बाज़ी इसव लिए अता हुई क्यूंकि उन्हों ने अल्लाह के वायदों पर यकीन किया था। रास्त्बाज़ी हासिल करने की बाबत जो भी हमारी आम समझ है यह उसको मंसूख करता है चाहे इस सोच के ज़रिये से कि अल्लाह के वजूद पर ईमान रखना ही काफी है या किसी हद तक नेक काम और मज़हबी सरगर्मियां (नमाज़, रोज़ा वगैरा) इन्हें बजा लाने से हम रास्त्बाज़ी को कमा सकते या उसके हक़दार हो सकते हैं। मगर याद रखें कि इब्राहीम (अलैहिस्सलाम) ने इस रास्ते को नहीं अपनाया था। उन्हों ने सादगी से अल्लाह के वायदे पर यक़ीन करने को चुना।

अब आप देखें कि एक बेटा इनायत किये जाने के वायदे पर यकीन करने का चुनाव शायद एक सीधी बात हो सकती थी मगर यह यक़ीनी तोर से आसान नहीं था। इब्राहीम (अलैहिस्सलाम) आसानी वायदे कि परवाह किये बगैर रह सकते थे इस सबब से कि हक़ीक़त में अल्लाह उसे एक बेटा देने की कुदरत रखता है तो उसी वक़्त उसे इनायत करे क्यूंकि इस दौरान इब्राहीम और उसकी बीवी सारा इतने उमरज़दह हो चुके थे कि बच्चे का होना ना मुमकिन था। इब्राहीम (अलैहिस्सलाम) की पहली निशानी में उसकी उम्र 75 साल से ऊपर थी जब उस ने अपने मुल्क को छोड़ा था और कनान में पहुंचा था। उस वक़्त अल्लाह ने उसको वादा किया था कि उस से एक बहुत ‘बड़ी कौम’ बनेगी। इस वायदे के बाद कई एक साल गुज़र चुके थे और वह दोनों उमर रसीदा हो चुके थे और डर हक़ीक़त उन्हों ने पहले से ही बहुत ज़ियादा इंतज़ार किया था। और अभी तक उनके एक बच्चा भी नहीं हुआ था तो एक ‘बड़ी कौम’ की बात कैसे हो सकती थी? “अगर अल्लाह को एक बड़ी कौम ही बनाना था तो उसने पहले से ही एक बेटा क्यूँ नहीं दिया” ? उसको शायद ताज्जुब लगा होगा। दुसरे लफ़्ज़ों में हालांकि उसके एक बेटा होने के वादे पर यकीन तो किया था मगर गालिबन उसके दमाग में वायदे की बाबत जवाब न मिलने वाले सवालात थे। उसने वायदे पर यकीन किया था इसलिए कि वायदे का देने वाला अल्लाह था – हालाँकि वह वायदे की हर बात को समझता नहीं था। मगर बुढापे की  उम्र में बच्चा होने के इस वायदे पर यकीन करने के लिए उसे और उसकी बीवी को ज़रुरत थी कि वह अल्लाह के एक मोजिज़े पर ईमान लाए कि वह एक मोजिज़े को अंजाम दे।

वायदे पर ईमान रखना सरगरम होकर इंतज़ार करने का भी तक़ाज़ा करता है। उसकी पूरी ज़िन्दगी एक तरह से दखलंदाज़ थी जब वह कनान के वायदा किये हुए मुल्क में खेमों में सालों तक इंतज़ारी में अपने दिन गुज़ार रहा था कि वायदा किया हुआ बेटा उसे मिल जाए। यह उस के लिए बड़ा आसान हो जाता अगर वह अल्लाह के वायदे को इल्तिफ़ात कर जाता और मसोपतामिया (मौजूदा इराक़) में अपने घर वापस चला जाता जिसे वह बहुत सालों पहले छोड़ चुका था जहां उस के भाई और उस का ख़ानदान और दीगर रिश्तेदार अभी भी खयाम करते थे। सो इब्राहीम (अलै.) को मुश्किलों के साथ जीना पड़ रहा था ताकि वायदे पर ईमान रखना जारी रखे। हर एक घड़ी और हर एक दिन बल्कि कुछ साल तक जबकि वह वायदे के पूरा होने का इंतज़ार कर रहा था – वायदे पर का उसका भरोसा बहुत बड़ा था जो कि ज़िन्दगी के आम हुसूल (जैसे तस्कीन और फ़लाह व बहबूद) पर फौकिय्क्त हासिल था। हकीकी मायनों में वायदे के पेशबंदी में जीना इस का मतलब था कि ज़िन्दगी के आम हुसूल के लिए मरना। वायदे पर ईमान रखने के ज़रिये वह अपने भरोसे और अल्लाह के लिए महब्बत दोनों का इज़हार कर रहा था।

इस तरह वायदे पर यक़ीन करना यह सिर्फ़ उस के लिए दिमाग़ी समझोते से बाहर जा रहा था। इब्राहीम (अलै.) को  अपनी ज़िन्दगी, शोहरत, मुहाफ़िज़त, हाल के अमल और उम्मीदों को इस वायदे पर मुताक्बिल के लिए जोखों में डालने की ज़रुरत थी। क्यूंकि उसने मुस्तअद्दी और फ़रमानबरदारी से इंतज़ार किया था।             

यह निशानी बताती है कि किस तरह इब्राहीम (अलैहिस्सलाम) ने अल्लाह के उस वायदे पर ईमान लाया जो एक बेटे के अता करने की बाबत थी और ऐसा करने के ज़रिये उसको अता भी हुई और रास्त्बाज़ी उस के नाम शुमार किया गया। सही मायनों में देखा जाए तो इब्राहीम (अलै.) ने खुद को इस वायदे के लिए मख़सूस किया था। उस के पास चुनाव था कि वायदे की परवाह न करता और अपने मुल्क (मौजूदा इराक़) में वापस चला जाता जहां से वह वापस आया था। और वह ऐसा भी कर सकता था कि उस वायदे की परवाह न करता जबकि अभी भी अल्लाह के वजूद पर ईमान रखे हुए था, अभी भी नमाज़ रोज़े की पाबंदी और दूसरों की मदद करनी जारी थी – मगर इसके बाद अगर वह सिर्फ़ अपने मज़हब पर काइम रहता मगर उसको ‘रास्त्बाज़ी’ में शुमार नहीं किया जाता। और जिस तरह कुरान शरीफ़ कहता है “हम सब जो आदाम की औलाद हैं – रास्त्बाज़ी के पोशाक हैं – जो कि बहुत ही उमदा है” – यह इब्राहीम (अलैहिस्सलाम) का रासता था।

हम ने रस्त्बाज़ी की बाबत बहुत कुछ सीखा है जो कि जन्नत में दाखिल होने के लिए ज़रूरी है और यह कमाया नहीं जाता बल्कि हमारे लिए शुमार किया जाता है। और यह अल्लाह के वायदे पर भरोसा करने के ज़रिये शुमार किया जाता है ।मगर सवाल यह है कि रस्त्बाज़ी के लिए कौन क़ीमत चुकाएगा ? हम निशानी 3 के साथ जारी रखेंगे।