इसा अल माशिह और ज़ाकिरुस की क्षमा

नबी हज़रत ईसा अल मसीह एक ‘खोये हुए’ गददार को बचाते हैं

जिस तरह सूरा अश-शूरा (सूरा 42 – मशवरा) हम से कहता है    यही (ईनाम) है जिसकी ख़ुदा अपने उन बन्दों को ख़ुशख़बरी देता है… Read More »नबी हज़रत ईसा अल मसीह एक ‘खोये हुए’ गददार को बचाते हैं